मुहर्रम


इस्लाम के महीनो में ‘मुहर्रम’ एक पवित्र माह है| यह इस्लामी कालेंडर का पहेला माह है| इस्लामी कालेंडर चन्द्रमा के प्रकार चलता है| इसमें 12 माह होते है| यह चन्द्रमा के गति के प्रकार चलते है| इस्लामी कालेंडर सौर कालेंडर के हिसाब से खरीब 10 दिन कम होता है|  [1]

 

विषय सूची

 

खुरआन

“वास्तव में महीनो की संख्या बारह महीने है अल्लाह के लेख में जिस दिन से उसने आकाशों तथा धरती की रचना की है| उनमे से चार हराम (सम्मानित) महीने है| यही सीधा धर्म है| अतः अपने प्राणों पर अत्याचार न करो तथा मिश्रणवादियों से सब मिलकर युध्ध करते है, और विश्वास रखो कि अल्लाह आज्ञाकारियों के साथ है|” [खुरआन सूरा तौबा 9:36]

 

इस्लामी कैलेंडर के माह

इस्लामी कैलेंडर के 12 माह :

  1. मुहर्रम
     
  2. सफ़र
     
  3. रबी उल अव्वल 
     
  4. रबी उल आखिर 
     
  5. जुमादा अल उला 
     
  6. जुमादा अल आखर 
     
  7. रजब 
     
  8. शाबान 
     
  9. रमज़ान 
     
  10. शव्वाल 
     
  11. जुल खादह 
     
  12. जुल हिज्जह  [2]

 

हदीस

अबू बकर रजिअल्लाहुअन्हु ने उल्लेख किया कि अल्लाह के रसूल मुहम्मद ने कहा : “साल 12 महीने का होता है, जिसमे 4 माह पवित्र (सम्मानित) है| जुल खादह, जुल हिज्जह, मुहर्रम - तीन लगातार है और रजब, जो जुमादा और शाबान के बीच आता है|” [सही बुखारी 1679 & अबू दावूद 1947]  

 

मुहर्रम में उपवास रखने का पुण्य

अबू हुरैरा रजिअल्लाहुअन्हु ने उल्लेख किया, अल्लाह के रसूल मुहम्मद   से पूछा गया कि, फर्ज़ (अनिवार्य) नमाज़ के बाद किस नमाज़ का महत्व है और रमजान के फर्ज़ (अनिवार्य) रोज़े (उपवास) के बाद किस रोज़े का महत्व है? अल्लाह के रसूल मुहम्मद ने कहा : मध्य रात्रि में पढ़ी जाने वाली नमाज़ और रमज़ान के रोज़े के बाद अल्लाह के माह मुहर्रम का रोज़ा| [सही मुसलिम 1163 & अत तिरमिज़ी 438]    

 

10 मुहर्रम को उपवास रखने का पुण्य

अल्लाह के रसूल मुहम्मद को ‘आशुरा’ (10 मुहर्रम) के उपवास के बारे में पूछा गया, तो आपने बताया : यह उपवास पिछले साल के गुनाह को माफ़ करा देता है| [सही मुसलिम 1162 (बुक 6, हदीस 2603)][वही हदीस : अल्लाह के रसूल मुहम्मद ‘अरफा’ (जुल हिज्जाह का नौवा (9) दिन) के उपवास के बारे में पूछा गया, तो आपने कहा : यह उपवास पिछले और अगले (आने वाले) साल के गुनाह माफ़ कराता है|]   

 

आशुरा का दिन या 10 मुहर्रम का इतिहास

इब्ने अब्बास (रजि) ने कहा : “अल्लाहकेरसूलमुहम्मदमदीना आने के बाद देखा कि, यहूदी ‘आशुरा’ के दिन उपवास रख रहे थे| उन्होंने पूछा, “यह क्या है?” लोगों ने जवाब दिया, “यह एक अच्छा दिन है| इसी दिन इस्राईल के लोगों को अल्लाह ने दुश्मनों से बचाया| इसलिए मूसा अलैहिस्सलाम ने इस दिन उपवास रखा|” अल्लाह के रसूल मुहम्मद ने कहा, “मूसा अलैहिस्सलाम पर हमारा ज्यादा अधिकार है|” इसलिए अल्लाह के रसूल मुहम्मद ने उस दिन उपवास रखा और लोगों (मुसलिमो) को आदेश दिया कि, वह भी उस दिन उपवास रखे| [सही बुखारी 2004 & सही मुसलिम 1130]   

 

10 मुहर्रम के दिन उपवास रखना

आयिशा रजिअल्लाहुअन्हा ने उल्लेख किया : अल्लाह के रसूल मुहम्मद ने मुसलमानों को आदेश दिया कि ‘आशुरा’ के दिन उपवास रहे| जब रमजान के महीने के उपवास अनिवार्य (फर्ज़) हो गए, तो यह (‘आशुरा’ का) उपवास ऐच्छिक हो गया (चाहे तो उपवास रख सकते है या छोड़ सकते है)| [सही बुखारी 2001]

 

अब्दुल्लाह बिन अब्बास रजिअल्लाहुअन्हुमा ने उल्लेख किया, जब अल्लाह के रसूल मुहम्मद ने आशुरा के दिन का उपवास रखा और दूसरों को भी रखने का आदेश दिया तो सहाबा कहने लगे कि, यहूदी और ईसाई तो इस दिन को महत्व देते है| तब अल्लाह के रसूल मुहम्मद ने कहा, आने वाले साल हम इन शा अल्लाह नौ (9) मुहर्रम के दिन भी उपवास रखेंगे| इब्ने अब्बास रजिअल्लाहुअन्हु ने कहा कि, अगले साल से पहले अल्लाह के रसूल मुहम्मद की मृत्यू हो गयी| [सही मुसलिम 1916]

 

सालिम के पिता अब्दुल्लाह बिन उमर रजिअल्लाहुअन्हुमा ने कहा : अल्लाह के रसूल मुहम्मद ने कहा, “जो चाहे वह ‘आशुरा’ का उपवास रख सकता है|” [सही बुखारी 2000] [3]

 

महत्व

यह महीने सम्मानित (पवित्र) होने के दो कारण है :

  1. इसलिए की इन महीनो में युध्ध करना निषेध किया गया है, परन्तु दुश्मन युध्ध करने के लिए आये तो युध्ध कर सकते है|
     
  2. इन महीनो में निशिध्ध कार्य करे तो उसका गुनाह भी दुगना होता है|

 

“....अतः अपने प्राणों पर अत्याचार न करो...” [खुरआन सूरा तौबा 9:36]

 

आधार, हवाला

[1] http://snahle.tripod.com/higri.htm (english)

[2] http://www.islamweb.net/emainpage/index.php?page=articles&id=155869 (english)

[3] http://www.sunnah.com/ (english)

[4] http://islamqa.info/en/75394 (english)

579 दृश्य
हमें सही कीजिये या अपने आप को सही कीजिये
.
टिप्पणियाँ
पृष्ठ का शीर्ष